जूझने का मेरा कोइ इरादा न था... (व्हिडिओ)

शिरुर,ता.१७ अॉगस्ट २०१८(प्रतिनीधी) : भारताचे माजी पंतप्रधान अटलबिहारी वाजपेयी यांच्या निधनानंतर सोशल मिडियावर त्यांच्या कविता मोठ्या प्रमाणावर व्हायरल होत आहे.

माजी पंतप्रधान अटलबिहारी वाजपेयी यांचे(ता.१६) रोजी सायंकाळी ५ वाजुन ५ मिनिटांनी निधन झाले.त्यानंतर देशभर दु:ख व्यक्त करण्यात येत आहे.एक सर्वसामान्य नेता,धुरंधर राजकारणी व कवी म्हणुन ओळख असलेल्या वाजपेयी यांच्या अनेक कविता प्रसिद्ध आहेत.निधनाचे वृत्त कळताच सर्वञ या कवितांच्या माध्यमातुन नागरिकांनी भावना व्यक्त केल्या आहेत.

फेसबुक वर सायंकाळपासुन मोठ्या प्रमाणात पोस्ट व्हायरल होत असुन व्हॉटसअप वरही सर्वच ग्रुपवर पोस्ट पहायला मिळत आहे.प्रभावी वक्तृत्व असलेल्या वाजपेयी यांची निवडक संग्रहित भाषणे सोशल मिडियावर व्हायरल होत आहे. अनेकांचे व्हॉट्सअप डिपी सुद्धा बदलले या काव्यपंक्तींच्या माध्यमातुन देशभरात श्रद्धांजली वाहिली जात आहे.

मौत से ठन गई! 
मौत से ठन गई!

जूझने का मेरा इरादा न था,
मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,
यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई।

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,
ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं।

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,
लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,
सामने वार कर फिर मुझे आज़मा।

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,
शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर।

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,
दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं।

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,
न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला।

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,
आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए।

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,
नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है।

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,
देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई।

मौत से ठन गई।

Comment Box is loading comments...

संबंधित बातम्या